राजभाषा इकाई



सिंहावलोकन


राजभाषा-इकाई सीएसआईआर-एनसीएल में राजभाषा हिन्दी के कार्यान्वयन तथा प्रचार-प्रसार के लिए कटिबद्ध है। इसका उद्देश्य कार्यालयीन कामकाज में हिन्दी के प्रयोग को बढ़ावा देना है। राजभाषा इकाई का मुख्य कार्य एनसीएल के वैज्ञानिकों/ अधिकारियों और कर्मचारियों को राजभाषा अधिनियम, नियमों एवं राजभाषा विभाग के दिशा-निर्देशों/ आदेशों की जानकारी देना और उनके कार्यान्वायन में मदद करना है।

राजभाषा इकाई द्वारा निम्नांकि‍त कार्य संपादित किए जाते हैं : -

  • सामान्य आदेश,सूचनाएं,विज्ञापन,प्रेस विज्ञप्तियां/ टिप्पणियां,संविदाएं,टेंडर के फार्म और नोटिस आदि का हिंदी अनुवाद;
  • राजभाषा विभाग के ‘वार्षिक कार्यक्रम’में निर्धारित लक्ष्यों की प्राप्ति में पदाधिकारियों का सहयोग करना;
  • प्रयोगशाला की वेबसाइट का हिन्दी अनुवाद,पुनरीक्षण,संपादन,मिलान आदि;
  • वार्षिक गृहपत्रिका ‘एनसीएल-आलोक’ का संपादन,प्रकाशन,वितरण आदि;
  • प्रयोगशाला के समस्त अनुभागों/ प्रभागों से तिमाही रिपोर्ट संबंधी जानकारी एकत्रित करके तिमाही रिपोर्ट बनाना, तिमाही रिपोर्ट का सीएसआईआर मुख्यालय तथा गृहमंत्रालय, राजभाषा विभाग को प्रेषण;
  • अन्य प्रकार का तकनीकी/ सामान्य अनुवाद कार्यादि;
  • वार्षिक प्रतिवेदन का हिंदी अनुवाद, पुनरीक्षण, संपादन, मिलान आदि;
  • विभिन्न प्रकार की हिन्दी गतिविधियों जैसे हिन्दी पखवाड़ा, हिन्दी कार्यशालाओं/ हिन्दी संगोष्ठियों का आयोजन;
  • राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठकें आयोजित करना,बैठकों की कार्यसूची एवं कार्यवृत्त तैयार करना तथा बैठकों में लिए गए निर्णयों पर की गई कार्रवाई का समन्वयन आदि;
  • नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठक में प्रतिभागिता करना;
  • संसदीय राजभाषा समिति द्वारा प्रयोगशाला के राजभाषा संबंधी निरीक्षण के समय उच्चाधिकारियों की सहायता करना, प्रश्नावली में दी जाने वाली जानकारियां समेकित करना, प्रश्नारवली तैयार करना, प्रस्तुत करना, अनुवर्ती कार्रवाईयों को पूरी करने में सहायता करना इत्यादि;
  • सीएसआईआर मुख्यालय, संसदीय राजभाषा समिति तथा गृह मंत्रालय,राजभाषा विभाग इत्यादि के द्वारा समय-समय पर पूछी गई राजभाषा संबंधी अन्य जानकारियां/सूचनाएं उपलब्ध कराना;
  • विभिन्न प्रयोगशालाओं/ संस्थानों से प्राप्त राजभाषा संबंधी विविध पत्रों/ आवतियों का निपटान;
  • एनसीएल में राजभाषा हिंदी के प्रगामी उपयोग को बढ़ावा देने के लिए समय-समय पर उचित सुझाव देना और इस बारे में भारत सरकार के राजभाषा विभाग तथा सीएसआईआर मुख्यालय के राजभाषा विभाग से उचित माध्यथम द्वारा संपर्क रखना;
  • राजभाषा संबंधी नीतिगत मामले आदि;
  • शीर्ष अधिकारियों द्वारा प्रदत्त राजभाषा संबंधी अन्य कार्यादि।